Trading kya hai इसे कैसे करें और trading से पैसे कैसे कमाएं

दोस्तों आप भी ट्रेडिंग करना चाहते हैं और एक ट्रेडर बनना चाहते हैं तो आपके लिए आज का यह लेख महत्वपूर्ण साबित होने वाला है। शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करना सब चाहते हैं लेकिन कुछ लोगों को नहीं पता है कि trading से पैसे कैसे कमाएं जाते हैं। ट्रेडिंग के बारे में सही से जानकारी ना होने के कारण बहुत से लोग इसे गलत और पैसा बर्बाद करने वाली चीज बताने लगते हैं।

यदि आपको एक अच्छा Trader बनना है तो ट्रेडिंग के बारे में आपको अच्छी और अधिक जानकारी होना जरूरी होता है। दोस्तों यहां पर लोग ट्रेडिंग को लेकर बहुत ही कंफ्यूज होते हैं की इसे कैसे करा जाता है। क्या ट्रेडिंग करने के लिए एप्लीकेशन की जरूरत होती है, तो यहां पर आपको Best trading app के बारे में भी बताया जाएगा जहां से आप ट्रेडिंग कर सकते हैं।

यदि आप ट्रेडिंग के बारे में अधिक जानना चाहते हैं और ट्रेडिंग क्या है trading से पैसे कैसे कमाएं जानना चाहते हैं तो इस लेख को विस्तार पूर्वक पूरा पढ़ें। यदि आप ट्रेडिंग से संबंधित जानकारी लेना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण साबित होगा।

1. Trading क्या है (trading kya hai)

दोस्तों ट्रेडिंग स्टॉक मार्केटिंग के विपरीत है हालांकि पैसे दोनों में ही लगाने होते हैं लेकिन ट्रेडिंग को आपको ज्यादा समय देना होता है। ट्रेडिंग को हम एक तरह का व्यापार समझ सकते हैं यह कम समय में ज्यादा मुनाफा देने वाला व्यापार है। Trading को आप अपने समय के अनुसार कर सकते हैं, इसमें यदि कोई स्टॉप ऊपर नीचे यानी उसका दाम कम होता है या बढ़ जाता है तो आप उसे खरीद और बेच सकते हैं।

जैसे आपने कोई स्टॉक ₹10 में खरीदा और 5 मिनट बाद उसकी कीमत ₹20 हो गई तो आपको 5 मिनट में ₹10 का मुनाफा हो जाएगा आप उसे बेचकर मुनाफा कमा सकते हैं। बस इसी तरह कम समय में शेयर स्टॉक को खरीद कर वह बेचकर अधिक मुनाफा कमाने वाले तरीके को ट्रेडिंग कहते हैं।

2. मोबाइल से trading कैसे करें ( mobile se trading kaise kare)

दोस्तों आज कल तो मोबाइल फोन सभी के पास है और उससे ट्रेडिंग करना भी आसान है। मोबाइल फोन पर बहुत से ऐसे एप्लीकेशन हैं जिन्हें इंस्टॉल करके आप मोबाइल फोन से आसानी से ट्रेडिंग कर सकते हैं। आप अपनी मोबाइल फोन के प्ले स्टोर से upstox और Grow जैसे प्लेटफार्म को डाउनलोड करके ट्रेडिंग कर सकते हैं। लेकिन उससे पहले आपको इन एप्लीकेशन पर अपना Demat account खुलवा के digital kyc करनी होगी। इसके बाद आपका डिमैट अकाउंट 24 घंटे के बाद खुल जाएगा फिर आप अपनी समय अनुसार फोन से ट्रेडिंग करके पैसे कमा सकते हैं।

3. Trading कितने प्रकार के होते हैं (Types of trading in Hindi)

दोस्तो ट्रेडिंग मुख्य रूप से कुछ ही प्रकार की होती हैं जिन्हें लोग करते हैं। इन्हीं में से लोग स्टॉक को खरीद कर और बेचकर इसी तरह ट्रेडिंग को करके पैसा कमाते हैं। तो चलिए जानते हैं इन ट्रेडिंग के बारे में जिन्हें आप भी कर सकते हैं।

• Intraday trading

Intraday trading एक प्रकार का ट्रेडिंग है जहां व्यापारी एक ही ट्रेडिंग दिन के भीतर वित्तीय संपत्तियां खरीदते और बेचते हैं। इसका मतलब यह है कि दिन के लिए बाजार बंद होने से पहले सभी पोजीशन बंद कर दी जाती हैं, और कोई पोजीशन रात भर के लिए नहीं रखी जाती है।

इंट्राडे ट्रेडिंग का लक्ष्य जल्दी मुनाफा बनाने के लिए बाजार में शॉर्ट टर्म मूल्य आंदोलनों का लाभ उठाना है। इंट्राडे ट्रेडर्स टेक्निकल एनालिसिस और चार्टिंग टूल का उपयोग बाजार में शॉर्ट टर्म ट्रेंड और गति की पहचान करने के लिए करते हैं, और फिर इन संकेतों के आधार पर ट्रेडों में प्रवेश करते हैं और बाहर निकलते हैं।

इंट्राडे ट्रेडिंग अनेक financial market जैसे स्टॉक, करेंसी, फ्यूचर्स और ऑप्शंस में की जा सकती है। सफल होने के लिए उच्च स्तर के discipline, risk management और technical skill की आवश्यकता होती है, क्योंकि व्यापार तेजी से निष्पादित होते हैं और बाजार की गतिशीलता की गहरी समझ की आवश्यकता होती है।

• Scalping trading

Scalping trading एक शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग स्ट्रेटजी है जिसमें एक फाइनेंसियल संपत्ति में छोटे मूल्य आंदोलनों से लाभ के लिए जल्दी उत्तराधिकार में कई ट्रेड करना शामिल है। स्केलिंग का उद्देश्य कम कीमत पर सुरक्षा खरीदना है और फिर इसे थोड़ी अधिक कीमत पर बेचना है, या इसके विपरीत, उच्च कीमत पर बेचना और फिर इसे थोड़ी कम कीमत पर वापस खरीदना है। स्कैलपर्स आमतौर पर केवल कुछ सेकंड या मिनटों के लिए खरीदे स्टाक को स्थिति रखते हैं और प्रवेश और निकास बिंदुओं की पहचान करने के लिए टेक्निकल एनालिसिस और चार्ट पैटर्न का उपयोग करते हैं।

स्केलिंग का उपयोग अनेक फाइनेंसियल बाजारों, जैसे स्टॉक, करेंसी और वायदा में किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए तेजी से निष्पादन और जल्दी निर्णय लेने की क्षमता की आवश्यकता होती है। स्ट्रेटजी में ज्यादा जोखिम शामिल है और सफल होने के लिए डिसिप्लिन, अनुभव और ज्ञान की आवश्यकता होती है। नतीजा, अनुभवहीन व्यापारियों और सीमित व्यापारिक पूंजी वाले लोगों के लिए स्केलिंग की सिफारिश नहीं की जाती है उन्हें यहां से जल्दी मुनाफा नहीं कमा पाएंगे।

• Swing trading

Swing trading एक लोंग टाइम तक रहने वाला स्टॉक होता है जिसे हमें 1 से 15 दिनों तक के बीच में खरीदना या बेचना होता है‌। Swing trading में आपको अच्छा समय मिल जाता है स्टॉक की प्राइस को बढ़ता और घटता देखकर जब दाम बढ़ जाता है तो उसे बेचकर मुनाफा कमा सकते हैं। Swing trading को समझने के लिए भी लोग टेक्निकल एनालिसिस और चाट का उपयोग करते हैं। इसमे सफल होने के लिए discipline, risk management और technical skill की आवश्यकता होती है, क्योंकि व्यापार तेजी से निष्पादित होते हैं और बाजार की गतिशीलता की गहरी समझ की आवश्यकता होती है।

• Short term trading

Short term व्यापार निवेश की एक style है जहां व्यापारी रिलेटिवली कम समय के भीतर stock को खरीदते और बेचते हैं, आमतौर पर कुछ घंटों से लेकर कुछ हफ्तों तक stock को धारण करते हैं। शॉर्ट-टर्म ट्रेडिंग का लक्ष्य लंबी समय के लिए पोजीशन रखने के बजाय बाजार में शॉर्ट-टर्म मूल्य आंदोलनों से लाभ प्राप्त करना है। Short term trading अधिकतर वही लोग करते हैं जिन्हें ट्रेडिंग के बारे में अनुभव अच्छा ज्ञान और तकनीकी एनालिसिस करने की क्षमता होती है। वही लोग शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग को भली-भांति और बिना किसी नुकसान के उसमें सफल हो पाते हैं।

• Long term trading

Long term trading एक ऐसी स्ट्रेटजी है जिसमें एक निवेशक या व्यापारी एक विशेष संपत्ति, जैसे कि स्टॉक, बॉन्ड, या कमोडिटीज में एक लंबे समय के लिए, आमतौर पर एक वर्ष से अधिक की स्थिति रखता है। लंबी अवधि के व्यापार का लक्ष्य बाजार में उतार-चढ़ाव से शॉर्ट टर्म लाभ के बजाय लंबी अवधि में मूल्य प्रशंसा, लाभ या ब्याज के माध्यम से मुनाफा कमाना है।

Long term के व्यापारी आमतौर पर short term के मूल्य से कम चिंतित होते हैं और संपत्ति के सभी ट्रेंड्स और बुनियादी बातों पर ध्यान केंद्रित करते हैं। वे संभावित निवेश के अवसरों की पहचान करने के लिए तकनीक और fundamental analysis का उपयोग कर सकते हैं और अपने stock को खरीदने, धारण करने या बेचने के बारे में सूचित निर्णय ले सकते हैं।

Long term के व्यापार के लिए धैर्य और discipline दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है, क्योंकि किसी निवेश को अपनी पूरी क्षमता तक पहुंचने में समय लग सकता है। हालाँकि, यह कई लाभ भी प्रदान कर सकता है, जैसे कि कम व्यापारिक लागत, कम tax, और बाजार की अस्थिरता और आर्थिक मंदी से बाहर निकलने की क्षमता।

4. trading से पैसे कैसे कमाएं (trading se paise kaise kamaye) 

मुनाफा कमाने की उम्मीद में स्टॉक, मुद्रा, कमोडिटी और डेरिवेटिव जैसे फाइनेंसियल साधनों को खरीदने और बेचने का जरिया ट्रेडिंग है। जबकि इस व्यापार से पैसा कमाना संभव है, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह एक जोखिम भरा और जटिल गतिविधि भी हो सकता है। ट्रेडिंग से पैसे कमाने के कुछ सामान्य टिप्स यहां दिए गए हैं:

• खुद को शिक्षित करें: यह व्यापार शुरू करने से पहले, यह महत्वपूर्ण है कि आप उन फाइनेंसियल साधनों के बारे में जितना हो सके उतना सीखें, साथ ही साथ बाजार और आर्थिक कारक जो उन्हें प्रभावित करते हैं। आप अपने ज्ञान को बेहतर बनाने के लिए किताबें पढ़ सकते हैं, सेमिनार में भाग ले सकते हैं। और ऑनलाइन कोर्स ले सकते हैं और यूट्यूब पर इस व्यापार से संबंधित बहुत सी वीडियो देख सकते हैं।

• एक व्यापारिक रणनीति विकसित करें: एक व्यापार स्ट्रेटजी नियमों का एक समूह है जिसका पालन आप फाइनेंसियल साधनों को खरीदते और बेचते समय करते हैं। इसमें technical analysis, fundamental analysis, जोखिम प्रबंधन और धन प्रबंधन जैसे चीजें शामिल हो सकते हैं। एक व्यापारिक रणनीति विकसित करने से आपको अधिक सूचित व्यापारिक निर्णय लेने में मदद मिलेगी। जिससे आपको एक अच्छा ट्रेडर बनने में काफी मदद करेगी और इससे आप अपने व्यापार में काफी वृद्धि कर पाएंगे।

• छोटे से शुरू करें: व्यापार करते समय छोटे से शुरू करना और केवल उस पैसे का निवेश करना महत्वपूर्ण है जिसे आप खो सकते हैं। यह आपको बहुत अधिक पूंजी जोखिम में डाले बिना अनुभव प्राप्त करने और अपनी गलतियों से सीखने की अनुमति देगा।

• बाज़ारों की निगरानी करें: बाज़ारों और समाचारों पर नज़र रखें जो आपके द्वारा व्यापार किए जा रहे फाइनेंसियल साधनों को प्रभावित कर सकते हैं। इससे आपको सूचित व्यापारिक निर्णय लेने और यदि आवश्यक हो तो अपनी रणनीति समायोजित करने में मदद मिलेगी। बाजार और समाचारों पर नजर रखने से आपको अपने निवेश की कंपनियों पर नजर पड़ती है जिससे पता चलता है कौन सा निवेश ऊपर गया और कौन सा नीचे।

• जोखिम प्रबंधन तकनीकों का उपयोग करें: जोखिम प्रबंधन तकनीक जैसे स्टॉप-लॉस ऑर्डर और स्थिति का आकार बदलने से आपको अपने नुकसान को सीमित करने और अपनी फाइनेंस की रक्षा करने में मदद मिल सकती है।

• अनुशासित रहें: अपनी व्यापारिक रणनीति पर टिके रहें और लालच या भय जैसी भावनाओं को अपने व्यापारिक निर्णयों का मार्गदर्शन न करने दें। सफल व्यापारियों के लिए निरंतरता और अनुशासन महत्वपूर्ण गुण हैं। अनुशासित रहना हर एक फील्ड का नियम होता है यदि आप अनुशासित रहते हैं तो आपको पॉजिटिविटी रहती है। किसी भी कार्य को करने के लिए अनुशासित रहना आवश्यक होता है जिससे पता चलता है कि आप अपने कार्य के प्रति कितना ईमानदार हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि व्यापार में सफलता की कोई गारंटी नहीं है, और पैसा खोना संभव है। इसलिए, सावधानी के साथ व्यापार करना महत्वपूर्ण है और जितना आप खो सकते हैं उससे अधिक निवेश न करें।

5. Trading और investment में अंतर

व्यापार और निवेश फाइनेंसियल बाजारों के लिए दो अलग-अलग दृष्टिकोण हैं।

ट्रेडिंग में short term मूल्य आंदोलनों से लाभ उत्पन्न करने के लक्ष्य के साथ स्टॉक, बॉन्ड, मुद्राएं, कमोडिटीज और डेरिवेटिव जैसी financial संपत्तियों को खरीदना और बेचना शामिल है। व्यापारिक निर्णय लेने के लिए व्यापारी तकनीकी और fundamental analysis, बाजार के रुझान, समाचार और अन्य जानकारी का उपयोग करते हैं। यह व्यापार बहुत जोखिम भरा हो सकता है और इसके लिए उच्च स्तर के अनुभव, अनुशासन और ज्ञान की आवश्यकता होती है।

दूसरी ओर, investment में assets मूल्य, लाभ भुगतान, या ब्याज आय की सराहना के माध्यम से धन उत्पन्न करने के लक्ष्य के साथ लंबे समय के लिए फाइनेंसियल संपत्ति खरीदना और धारण करना शामिल है। निवेशक किसी संपत्ति के संभावित मूल्य को निर्धारित करने और निवेश निर्णय लेने के लिए fundamental analysis, आर्थिक संकेतक और अन्य कारकों का उपयोग करते हैं। निवेश को आमतौर पर ट्रेडिंग की तुलना में कम जोखिम भरा माना जाता है, लेकिन इसमें अभी भी कुछ स्तर का जोखिम शामिल है और इसके लिए long term परिप्रेक्ष्य की आवश्यकता होती है।

सारांश में, व्यापार short term लाभ पर केंद्रित है और इसके लिए बहुत कौशल, अनुभव और अनुशासन की आवश्यकता होती है, जबकि निवेश long term धन क्रिएशन पर केंद्रित होता है और इसके लिए धैर्य और बुनियादी बातों की अच्छी समझ की आवश्यकता होती है।

Leave a Comment